Sunday, December 20, 2009

रतन जी, ने मेरा भी शिकार कर ही लिया :)

रतन जी ने कईयों के शिकार किये हैं| एक तो पोस्ट लिखे भी थे की आज ब्लागींग के जाल मे फसा लिया....

आज  तो  उन्होने मेरा भी शिकार कर ही लिया|

कैसे?
हिन्दी ब्लागर Windows XP का ईस्तमाल करते हैं और जो उबंटु का ईस्तेमाल करते हैं वो XP भी रखते हैं|


अब देखीये मुझे तो लगता है की शिकार करने के लिये रतन जी कई बार जाल फेक चुके हैं|



मै कई बार बता चुका हूं की मेरा नेट मोबाईल से चलता है तो देखीये जाल मे डालने का भी जुगाड कर दिये


अब रतन जी ने सोचा की कुन्नू तो जाल मे आ नही रहा है ईसलिये ये एक और जाल फेक दियें  - उबंटु मे ईव्यूलेसन ईमेल




अब बताईये हम सब तो Windows XP ईस्तेमाल करते हैं और टुटोरीयल उबंटु का बना रहे हैं|



अब जाल मे फस ही गया हूं| जा रहा हूं CD लाने Ubuntu को बर्न करने के लिये :))) हा....हा....

जय हो शिकारी बाबा(उबंटु) जी की

3 comments :

Ratan Singh Shekhawat said...

एक बार उबुन्टू पर नेट चला लिया तो विंडो एक्सपी भूल जावोगे :)
अभी कुछ दिनों पहले मैंने एक मित्र के कम्पनी के कंप्यूटर में उबुन्टू डाल दिया था वहां उसकी नेट की स्पीड देखकर दुसरे स्टाफ सदस्यों ने हंगामा कर दिया कि नेट की सारी स्पीड तो उबुन्टू ही खेंच ले रहा है हमारे कंप्यूटर कैसे चलेंगे ?
इस घटना पर जल्द ही एक पोस्ट लिखने वाला हूँ |

Ratan Singh Shekhawat said...

मेरे मित्र लक्ष्मण सिंह जी राठौड़ और रामबाबू सिंह जी ने मेरे कंप्यूटर पर एक दिन उबुन्टू चलाने के बाद अपने अपने लेपटोप व डेस्कटॉप से विंडो एक्सपी को भगा ही दिया और अब वे दोनों उबुन्टू के दीवाने है |

yash said...

mai bhi ubantu daal lu kya :P

Related Posts with Thumbnails